Motivational Hindi Story on Work – कोई काम छोटा या बड़ा नहीं होता

Motivational Hindi Story on Work
Pic: Pexels

बैंकाक. थाईलैंड में कचरा बीनने वाली महिला की बेटी ने ब्यूटी क्वीन का खिताब जीतने के बाद अपना ताज अपनी मां के कदमों में रख दिया। इस दिल को छूने वाली घटना की फोटोज सोशल मीडिया पर इन दिनों वायरल हो रही हैं।

17 साल की खानिट्‌टा मिन्ट फासिएंग ने बीते महीने मिस अनसेंसर्ड न्यूज थाईलैंड 2015 का क्राउन जीता है। हाल ही में होमटाउन लौटने पर उसने मां के पैरों में झुक कर उसे थैंक्यू कहा। इस दौरान मां रास्ते में कचरा बीनने का काम कर रही थी। मिन्ट के सिर पर क्राउन था। उसने सेस (ब्यूटी कॉन्टेस्ट का रिबन) और हाई हील शूज पहने थे।

बता दें, कि भारतीय उपमहाद्वीप समेत एशिया के कई देशों में बड़ों के सम्मान में उनके पैरों पर झुककर आशीर्वाद लेने का ट्रेडिशन है। मां के लिए शर्म कैसी ..मिन्ट ने मीडिया को बताया, ”इसमें शर्म वाली कोई बात नहीं है। वह मेरी मां है। वह ईमानदारी से अपना काम कर रही है। उन्होंने बड़ी मेहनत से मुझे पाला है।”

मिन्ट के मुताबिक, वह जीवन के प्रति आशावादी है। वह भी अपने परिवार की छोटी-मोटी नौकरियां करके या मां की कचरा बीनने में मदद करती रहती है।

SHARE