Motivational Hindi Story of Rich, Poor and Arrogance – फिर किस चीज़ पर आदमी को घमंड है

Motivational Hindi Story of Rich, Poor and Arrogance
Pic: Wikimedia

एक फ़क़ीर शमशान में दो चिताओ की राख को बड़े ध्यान से देख रहा था।

किसी ने पूछा कि बाबा एसे क्यू देख रहे हो राख को ।

फ़क़ीर बोला कि ये एक अमीर की लाश की राख है जिसने ज़िंदगी भर काजू बादाम खाये

और ये एक ग़रीब की लाश है जिसे दो वक़्त की रोटी भी बडी मुश्किल से मयस्सर होती थी ,

मगर इन दोनों की राख एक सी ही है

फिर किस चीज़ पर आदमी को घमंड है वही देख रहा हूं।.

Motivational Learning from the Story:

God created us same. It’s we who created social gaps.

Everyone will die one day. We should always remember that.

There’s no reason to believe in rich and poor, small and big etc.

SHARE